23 मार्च 2007 का वो बुरा दिन सचिन आज भी नही भूल पाते, जानिए इस बारे में

Third party image reference

भारतीय टीम का एक नायाब हीरा जिसे पूरी दुनिया हमेशा याद रखेगी हमेशा के लिए, जिसके बैटिंग से रन जब भी रन निकलते थे तो पूरा स्टेडियम गूँज उठता था। रेडियो के ज़माने से लेकर आज के नए टेक्नोलॉजी के ज़माने में भी इस खिलाड़ी की हर जगह, हर देश, हर गली मोहल्ले में लोग चर्चा करते ही रहते है। बिल्कुल सही पहचाना आपने हम बात कर रहे है क्रिकेट के भगवान मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर की। जिन्होंने अपनी शानदार बल्लेबाजी से भारत का सिर दुनिया के चाहे कितने भी तेज गेंदबाज क्यों ना हो उनके आगे नही झुकने दिया

आज है सचिन का जन्मदिन

Third party image reference

आज सचिन तेंदुलकर का जन्मदिन भी है। सचिन आज 45 वर्ष के हो चुके है। लेकिन जैसे हर किसी की लाइफ में अच्छे बुरे दिन आते है वैसे है सचिन की लाइफ में भी एक समय ऐसा आया था जब वो काफी परेशान हो गए थे यही इस दौरान सचिन का मूड ऐसा खराब हुआ कि वो क्रिकेट से सन्यास के बारे सोचने लगे थे। साल 2007 जब सचिन तेंदुलकर के जीवन मे ये खराब दिन आये थे। दरअसल साल 2007 में वे वेस्टइंडीज में जो वर्ल्ड कप हुआ इसमे भारतीय टीम को कमजोर टीमो से भी हारता देखा गया था।

साल 2007 सचिन कभी नहीं भूलते

Third party image reference

इस वर्ल्ड कप 2007 में भारत की टीम को सबसे बड़ा झटका लगा था उन्हें सबसे कमजोर टीम बांग्लादेश के हाथों हार का सामना करना पड़ा था इसके बाद श्रीलंका से भी टीम हार गयी थी। उस समय सचिन दो दिन तक अपने कमरे से बाहर नही निकले थे। और बस सन्यास की सोच रहे थे लेकिन उस समय सर् विव रिचर्ड्स ने सचिन के साथ 45 मिनिट्स तक बात की और समझाया कि आगे बढ़ो और सकारात्मक तरीके से खेल खेला। सचिन ने एक इंटरव्यू में ये बताया कि 23 मार्च 2007 का दिन उनके बुरे दिनों में से था इस दिन भारतीय टीम वर्ल्ड कप 2007 में फाइनल से पहले ही बाहर हो गयी थी।

Post Author: Babit

Hello I am Babit Kumar, A new Generation Sports Blogger

Leave a Reply