Suresh Raina की ये शानदार ख़ासियत, जो बनाती है इन सबसे महान

Suresh Raina की ये शानदार ख़ासियत, जो शायद ही किसी प्लेयर में देखी हो

भारतीय क्रिकेट टीम में साल 2005 में एक नायाब क्रिकेट सितारे का आगमन होता है, जिसने आते ही अपनी आक्रामक बल्लेबाजी, तेजतर्रार और फुर्ती वाली फील्डिंग से टीम इंडिया में चार चांद ही लगा दिए। इतना ही जब भी कप्तान को विकेट की तलाश होती थी तो ये प्लेयर शानदार स्पिन गेंदबाजी से मैच का रुख ही पलट देता था।

Aus vs Ind 5th ODI 10 साल के बाद आमने सामने होंगी भारत और ऑस्ट्रेलिया

Suresh Raina
Suresh Raina

दोस्तो इस शानदार और जानदार खिलाड़ी का नाम है सुरेश रैना, इन्होंने अपने शानदार खेल से ना जितने कितने मैचों में अकेले अपने ही दम से भारत को मैच जीतवाये है। ये तो आप जानते ही है कि सुरेश रैना कभी अगर बल्लेबाजी में ना चले उस समय अपनी गेंदबाजी से नही तो अपनी फील्डिंग से ही मैच में जीत का बिगुल बजा देता था।

लेकिन इसके इलावा भी सुरेश रैना की एक शानदार खासियत है जिसके बारे में हम आपको आज बताना चाहेंगे, आपने अक्सर देखा होगा कि मैदान में फील्डिंग के दौरान रैना तो बढ़िया क्षेत्ररक्षण करते ही थे लेकिन इसके साथ साथ जब कोई दूसरा साथ खिलाड़ी बढ़िया गेंदबाजी करता हो या फिर बढ़िया फील्डिंग, तो उस समय सिर्फ रैना ही ऐसे प्लेयर होते थे जो उस खिलाड़ी के पास जाकर जादू की झप्पी या हाई फाइव करके उनकी हौसला अफ़जाई करते है। बस रैना का ये शानदार व्यवहार उन्हें सब महान प्लेयर्स से ऊंचा रखता है।

लेकिन अब बस जल्दी से आंखे तरस रही है इस चैंपियन को एक बार फिर से इंटरनेशनल क्रिकेट में वापस खेलते हुए देखने के लिए।